Geet - Sunahare 
  Kavi Kulwant Singh

 [ My Poetry List ] | [ Poetry Poem ] | Today's Poetry | Sign In

kavikulwant
  Sign Guestbook
  Read Guestbook

 Prakriti

सावन का महीना, प्रकृति की सुंदरता, बरसात.. इस मौसम में एक कविता प्रस्तुत है॥

प्रकृति

सतरंगी परिधान पहन कर,
आच्छादित है मेघ गगन,
प्रकृति छटा बिखरी रुपहली,
चहक रहे द्विज हो मगन ।

कन - कन बरखा की बूंदे,
वसुधा आँचल भिगो रहीं,
किरनें छन - छन कर आतीं,
धरा चुनर है सजो रहीं ।

सरसिज दल तलैया में,
झूम - झूम बल खा रहे,
किसलय कोंपल कुसुम कुंज के,
समीर सुगंधित कर रहे ।

हर लता हर डाली बहकी,
मलयानिल संग ताल मिलाये,
मधुरिम कोकिल की बोली,
सरगम सरिता सुर सजाए ।

कल - कल करती तरंगिणी,
उज्जवल तरल धार संवरते,
जल-कण बिंदु अंशु बिखरते,
माणिक, मोती, हीरक लगते।

मृग शावक कुलाँचे भरता,
गुंजन मधुप मंजरी भाता,
अनुपम सौंदर्य समेटे दृष्य,
लोचन बसता, हृदय लुभाता ।

कवि कुलवंत सिंह


  Poetry Ad-Free Upgrades  




Vote for this poem

Please Comment On This Poem

Comments

 Email Address

 

Vote for this poem
 [ My Poetry List ] | [ Poetry Poem ] | Today's Poetry | Sign In
©2000 - 2014 Individual Authors. All rights reserved.