Poetic Verses

मानवता के दुश्मन

रात का सन्नाटा
अचानक
चीख पड़ती है मौतें
किसी ने हिन्दुओं को दोषी माना
तो किसी ने मुसलमानों को
किसी ने नहीं सोचा
न तो ये हिंदू थे, न मुसलमान
थे मानवता के दुश्मन।
***कृष्ण कुमार यादव***



Comment On This Poem --- Vote for this poem
मानवता के दुश्मन

10,325 Poems Read

Sponsors